Share on whatsapp
Share on twitter
Share on facebook
Share on email
Share on telegram
Share on linkedin

आंखों की देखभाल: जानिए उन संकेतों के बारे में जो आपके बच्चों को चश्मा पहनने की जरूरत है

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on linkedin

live aapnews : बदलती जीवनशैली के कारण न केवल वयस्क बल्कि बच्चों के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। बच्चों को बाहर का जंक फूड इतना पसंद होता है कि कभी-कभी वे इसके बिना परिवार से नाराज हो जाते हैं। बच्चे कई तरह की बीमारियों से ग्रसित होते हैं। आजकल गैजेट्स फ्रेंडली होने से बच्चों की आंखों और दिमाग पर इसका बुरा असर पड़ रहा है। उन्हें अक्सर आंखों में जलन और दर्द की शिकायत होती है। यह भी देखा गया है कि माता-पिता इन आंखों की समस्याओं पर ध्यान नहीं देते हैं। आँखों पर पड़ने वाले बुरे प्रभाव ( Eye Care Tips in Hindi ) के कारण बच्चों को अक्सर चश्मा लगाने की आवश्यकता पड़ती है।

हालांकि, कई अन्य कारण हैं जो संकेत देते हैं कि बच्चे को चश्मा पहनने की जरूरत है। ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में हम आपको जानकारी देने जा रहे हैं। के बारे में जानना
अध्ययन में कठिनाई
अगर आपके बच्चे को स्कूल का काम करने में परेशानी होती है और उसके पीछे आंख की समस्या है तो जान लें कि उसे चश्मा लगाने की जरूरत है। काम में कठिनाई का असर उसके प्रदर्शन पर भी पड़ सकता है। यदि आपका बच्चा स्कूल से होमवर्क या अन्य कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम नहीं है, तो एक बार उसकी आंखों की जांच करवाएं।

आँखें मलना
गैजेट्स के अत्यधिक उपयोग के अलावा बढ़ते प्रदूषण से बच्चे की आंखों में भी समस्या हो सकती है। उनकी आंखों में अक्सर जलन या खुजली होती है। ऐसी स्थिति में बच्चा आंखें मलना शुरू कर देता है। इन्हें चश्मा पहनने का संकेत भी माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि अगर कोई बच्चा बार-बार अपनी आंखों को रगड़ता है, तो यह कमजोरी का संकेत है। उसे डॉक्टर के पास ले जाएं और उचित इलाज कराएं।

सिरदर्द होना
गैजेट्स की आदत से आंखों पर बुरा असर पड़ता है और इस वजह से बच्चों को अक्सर सिर दर्द की शिकायत होने लगती है। यदि आपका बच्चा बार-बार सिरदर्द की शिकायत करता है, तो यह भी बताता है कि उसे चश्मे की आवश्यकता क्यों है। दरअसल, कमजोर आंखों पर फोकस करने से सिर दर्द होता है। ऐसे में चेकअप जरूरी है।

आँखों में थकान
अगर बच्चे को आंखों में थकान महसूस होती है तो इस स्थिति में भी उसकी आंखों की जांच की जरूरत होती है। डॉक्टर की सलाह के मुताबिक अगर उन्हें चश्मे की जरूरत है तो उन्हें यह ट्रीटमेंट जरूर फॉलो करना चाहिए।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on linkedin
advertisement

Latest News