आज अचानक विधानसभा पहुंचे दिलीप घोष! लेकिन वह किसी भी बीजेपी विधायक के घर नहीं गए

Live aap news :   वह हाल ही में लोकसभा चुनाव में हार गये थे. बंगाल बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष दिलीप घोष बर्दवान-दुर्गापुर लोकसभा सीट पर तृणमूल के कीर्ति आजाद से हार गए हैं. फिर दिलीप घोष शुक्रवार दोपहर अचानक विधानसभा में मिले. विधानसभा में आने के बावजूद पूर्व बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष को बीजेपी संसदीय दल के घर या नेता प्रतिपक्ष के घर जाते नहीं देखा गया. वह सीधे विधानसभा के रिपोर्टर रूम में जाकर बैठ गये. दोपहर में दिलीप बाबू ने विधानसभा में आकर कुछ समय बिताया.
बंगाल भाजपा के पूर्व अध्यक्ष दिलीप घोष राज्य से पूर्व विधायक भी हैं। 2016 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने खड़गपुर सदर से चुनाव जीता और विधायक बने। बाद में उन्होंने उन्नीस लोकसभा चुनाव जीता और सांसद बने। इस साल के लोकसभा चुनाव में दिलीप घोष की सीट बदल गयी. पार्टी के निर्णय से उन्हें मेदिनीपुर में जीती हुई सीट छोड़कर बर्दवान-दुर्गापुर लोकसभा से चुनाव लड़ना पड़ा। इस चुनाव में हार के बाद से दिलीप घोष की विभिन्न टिप्पणियों ने बंगाल बीजेपी को असहज कर दिया है.
दिलीप घोष ने दावा किया कि सीट बदलने पर आपत्ति जताने के बावजूद उनकी सीट बदल दी गई. इतना ही नहीं, दिलीप घोष की ‘काठीबाजीर’ की थ्योरी वोट खोने की आवाज में सुनाई दी. क्या यह समग्र स्थिति पार्टी की छवि को प्रभावित कर सकती है? मैना के बीजेपी विधायक अशोक डिंडा ने सवाल का नाम लेने की बजाय गेंद दिलीप घोष की ओर बढ़ा दी. उन्होंने कहा, ‘कई लोग हारने के बाद कई तरह की बातें कहते हैं. मुझे इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता. जो जीता ओही सिकंदर. कौन कैसे जीता, कौन नहीं जीता, कौन जीता… ये बातें बेकार हैं। जनता को गरमाने से कोई फायदा नहीं. जनता ने आपको वोट नहीं दिया, यह आपको स्वीकार करना होगा. इसे स्वीकार करते हुए हमें भविष्य में संगठन पर ध्यान देना चाहिए।’

Latest News

ऐसी और खबरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें