एनसीपीसीआर कार्यक्रम में स्कूल के बालिका का हिस्सा लेना गर्व की बात: अर्जुन पासवान

खोरीबाड़ी। राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) के 18वां स्थापना दिवस के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए सीमावर्ती उत्क्रमित उच्च विद्यालय गलगलिया के दो बालिका खुशी जायसवाल व खुशबू कुमारी सहनी, सहायक शिक्षिका वर्षा रानी के साथ सोमवार को दिल्ली के लिए ट्रेन से रवाना हुए। उक्त आशय की जानकारी देते हुए सीमावर्ती गलगलिया उत्क्रमित उच्च विद्यालय के प्रधानाध्यापक अर्जुन पासवान ने बताया की अपने विद्यालय के लिए महान यात्रा है, जो जिले में एक मात्र विद्यालय है जिनके साथ माननीय प्रधानमंत्री रूबरू हो सकते हैं, देश के 75 सीमावर्ती जिले से बच्चे एक साथ एक इंडिया के बच्चियों को देखने, समझने और परखने हेतु विशाल कार्यक्रम का साक्षी बनेंगे । इसके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए सफल यात्रा की कामना विद्यालय परिवार करता है। उन्होंने बताया उक्त कार्यक्रम में स्कूल के बालिका का हिस्सा लेना गर्व की बात है।उल्लेखनीय है की राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) 02 मार्च को अपना 18वां स्थापना दिवस मना रहा है। इस वर्ष आयोग अपना स्थापना दिवस “सशक्त बालिका” विषय के साथ मना रहा है। कार्यक्रम ऑडिटोरियम, प्रधान मंत्री संग्रहालय, तीन मूर्ति मार्ग, नई दिल्ली में आयोजित किया जाएगा। इस दिन को चिह्नित करने के लिए, आयोग देश के 75 सीमावर्ती जिलों के गांवों के बच्चों को उन्हें बाल अधिकार दूत बनाने के लिए आमंत्रित किया है । कार्यक्रम के दिन, बच्चों के लिए प्रधान मंत्री संग्रहालय, नई दिल्ली की यात्रा की भी योजना है।

Latest News

ऐसी और खबरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें