Share on whatsapp
Share on twitter
Share on facebook
Share on email
Share on telegram
Share on linkedin

ठाकुरगंज में हो रही ड्रेगन फ्रूट की खेती का निरिक्षण करने पहुंचे संयुक्त निदेशक उद्यान आभांशु सी जैन

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on linkedin

Live aap news : खोरीबाड़ी। जब तक किसान प्रोफेशनल सोच के साथ खेती नहीं करेंगे और लगातार बदलते सिस्टम के अनुसार अपने को नहीं ढालेंगे उनकी तरक्की सम्भव नहीं है। ये बाते सीमावर्ती ठाकुरगंज में हो रही ड्रेगन फ्रूट की खेती का निरिक्षण करने पहुंचे संयुक्त निदेशक उद्यान आभांशु सी जैन ने कही। ठाकुरगंज में लेटिन अमेरिकन फल ड्रेगन फ्रूट की हो रही खेती का जायजा लेने के दौरान उत्साहित्त आभांशु सी जैन ने कहा की ड्रेगन फ्रूट की हो रही खेती से आने वाले समय में जिले में कृषि क्रांति के संकेत माने जा रहे हैं। उन्होंने कहा की कृषि के मामले में वे ही किसान सफल हो सकते है जो प्रयोगों में विश्वास करते है। आज ठाकुरगंज में ड्रेगन फ्रूट की खेती के जरिए किया जा रहा एक नया  प्रयोग आने वाले दिनों में लोगो को एक नई राह दिखायेगा। इस दौरान उन्होंने ड्रेगन फल की खेती करने वाले किसान नागराज नखत से इस खेती के सम्बन्ध में बात करते हुए विस्तार से जानकारी प्राप्त की। खेती का निरिक्षण के बाद उन्होंने कहा की किसानो की पारंपरिक खेती से हट कर नये प्रयोग करने चाहिए । ठाकुरगंज में ड्रैगन फ्रूट की खेती के जरिये इसके प्रयास शुरू भी हुए हैं। उन्होंने कहा की सूबे में पहली बार हो रही ड्रेगन की खेती को बिहार सरकार प्रोत्साहन देगी  इस दौरान उन्होंने इस फल की खेती के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की। उन्होंने इस खेती में पड़ने वाली लागत एवं बाजार में इसके मूल्य की जानकारी ली। वही इस दौरान कृषक नागराज नखत ने उनसे इस फल के मार्केटिंग के मामले में सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा की यदि कृषि को उद्योग के रूप में लिया जाए तो कृषकों को आय के लिए दूसरे स्रेतों पर आश्रित रहने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उन्होंने कहा की बिहार सरकार प्रयास करे की सूबे में विदेशी फल की पहले बार हो रही इस खेती को स्टार्टअप के रूप में मान्यता के लिए राज्य सरकार प्रयास करे वही संयुक्त निदेशक उद्यान आभांशु सी जैन ने बताया की केंद्र और राज्य सरकार की ओर से किसानों की आय बढ़ाने के लिए सतत प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए सरकार की ओर से किसानों को कई योजनाओं के माध्यम से लाभ पहुंचाया जा रहा है। सरकार चाहती है कि किसान परंपरागत खेती की जगह बाजार की मांग पर आधारित खेती करने पर जोर दे ताकि उन्हें अच्छा मुनाफा मिल सके। इसी क्रम में बिहार  सरकार की ओर से किसानों को बागवानी फसलों पर सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जा रहा है। इसके लिए राज्य सरकार की ओर से ड्रैगन फ्रूट की खेती के लिए किसानों को सब्सिडी का लाभ भी प्रदान किया जा रहा है। इस दौरान जिला उद्यान पदाधिकारी रजनी कुमारी, प्रखंड उद्यान पदाधिकारी संजय कुमार भी मोजूद थे।  नागराज नखत के ड्रेगन फार्म का निरिक्षण के पूर्व संयुक्त निदेशक उद्यान आभांशु सी जैन ने सिकन्दर पटेल के चाय बगान का भी निरिक्षण किया।

Share on whatsapp
Share on facebook
Share on twitter
Share on email
Share on telegram
Share on linkedin
advertisement

Latest News