प्लास्टिक छोड़ हम कपड़े के थैले का इस्तेमाल करें तो बड़े स्तर पर पर्यावरण को बचा सकते हैं: योगेश सिंह

Live aap news : खोरीबाड़ी, सुनीता नायक। सीमान्त मुख्यालय सिलीगुड़ी एवं 41वीं वाहिनी रानीडंगा के संयुक्त तत्वाधान में मिशन मेरी लाइफ के तहत शनिवार को 41वीं वाहिनी मुख्यालय परिसर में स्वच्छता अभियान चलाया गया जिसमें पारिवारिक आवास परिक्षेत्, पार्क, नालों इत्यादि की साफ़ सफाई की गयी। मिशन मेरी लाईफ (पर्यावरण के लिए जीवन शैली) के तारतम्य में योगेश सिंह कमांडेंट 41वीं वाहिनी ने बताया मिशन लाइफ का अर्थ ऐसे अभियान से है जिससे पर्याव्ररण संरक्षण हो, हर एक व्यक्ति को अपनी जिम्मेदारी समझने की आवश्यकता है। कमांडेंट महोदय ने अपने वक्तव्य में छोटे से लेकर बड़े- बड़े काम को पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए आगे बढ़ाने की अपील की एवं कुछ उदहारण देकर उपस्थित बलकर्मियों एवं उनके परिवार के लोगों को समझाया कि हमारे छोटे से प्रयास से हम अपने पर्यावरण को बचा सकते है जैसे प्लास्टिक बैग का ही उदाहण लें, हमें प्लास्टिक की थैली धड़ल्ले से इस्तेमाल करने की आदत लग गई है जो कि हमारी प्रकृति में जहर के समान है। मिशन लाइफ बताता है कि अगर प्लास्टिक छोड़ हम कपड़े के थैले का इस्तेमाल करें तो बड़े स्तर पर पर्यावरण को बचा सकते हैं। महोदय ने अगला उदाहण देते हुए बताया की जैसे हम बाइक या कार से यात्रा कर रहे हो और ट्रैफिक रुका हो तब गाड़ी बंद रखें इससे तेल की भी बचत होगी पर्यावरण में जहरीला धुआं जाने से बचेगा और पर्यावरण संरक्षण भी होगा। उन्होंने बताया कि हमारे देश ही नहीं अपितु दुनिया में जल संकट एक बड़े खतरे के रूप में देखा जा रहा है, भूजल स्तर लगातार गिरता जा रहा इसके लिए जरूरी है कि नल आदि से पानी की बर्बादी रोकें एवं वर्षा के जल को संग्रहित कर पानी की उपलब्धता बढ़ाई जा सकती है, इसी तरह अन्न बचाने और उसका आदर करने की आवश्यकता पर बल दिया। अंत में कमांडेंट महोदय ने सभी जन को अतीत से सीखने और उसे भविष्य की समृद्धि के लिए वर्तमान में लागू करने की कोशिश करने की अपील की। स्वच्छता कार्यक्रम में योगेश सिंह, कमांडेंट 41वीं वाहिनी, रवि भूषण उप कमांडेंट सीमान्त मुख्यालय सिलीगुड़ी एवं 41 वीं वाहिनी एसएसबी के अधिकारी व अन्य बलकर्मी उपस्थित रहें।

Latest News

ऐसी और खबरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें