Share on whatsapp
Share on twitter
Share on facebook
Share on email

भारत नेपाल के गलगलिया भद्रपुर अंतराष्ट्रीय सीमा आंशिक रूप से आवागमन बहाल कर दिया गया

खोरीबाड़ी:

सीमा पर आवागमन बहाल होने से दोनों देशों के स्थानीय लोगों, व्यवसाइयों, दुकानदारों टोटो चालकों आदि में हर्ष व्याप्त है । हालांकि सीमा पर किसी भी यात्री वाहन, बाइक बाधित है । मिली जानकारी अनुसार गुरुवार से सीमा पर आवागमन के लिए कोरोना नियमों के पालन करने के साथ साथ आवश्यक दस्तावेजों में वोटर आई कार्ड वैक्सीन की दोनों खुराक की प्रमाणपत्र, वैक्सीन की खुराक नहीं होने पर 72घंटा का आरटीपीसीआर रिपोर्ट, नागरिकता होना जरूरी है । एसएसबी 41वीं बटालियन के भातगांव बीओपी के जवानों द्वारा गलगलिया भद्रपुर सीमा पर आवश्यक दस्तावेजों का गहन जांच के पश्चात आवागमन किया जा रहा है । उल्लेखनीय है की कोविड -19 के कारण जारी लॉकडाउन के कारण मार्च 2020 से गलगलिया भद्रपुर सीमा पर आवागमन बाधित थी । बृज मोहन सिंह उर्फ मुन्ना सिंह ने बताया दुर्भाग्यवश कोरोना के कारण सभी लोग प्रभावित हुआ । सीमा पर आवागमन बाधित से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा । भारत – नेपाल के बीच बेटी -रोटी का जो सबंध था उसमे दरार आने लगी थी । साथ ही व्यापारी, मजदूर, दुकानदार, फुटकर विक्रेता, टोटो चालक हर वर्ग के लोग प्रभावित ही नहीं बल्कि उनकी आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई थी । सीमा से आंशिक आवागमन बहाल होने के बाद इन वर्ग के सभी लोगों के चेहरे खुशी से खिल उठे । टोटो चालक भोला शाह ने बताया सीमा खुलने से अब आस जगी है । नेपाल से आए महिला तारा देवी ने बताया सीमा पर आवागमन बहाल होने से काफी सहज हो गया है । काफी दिनों के पश्चात रिश्तेदारों से मिलने का मौका मिला है । मदन मोहन ने बताया सीमा खुलने से स्थिति में सुधार होगी । वहीं सीमा खुलने की खबर मिलते ही काफी संख्या में लोग सीमा पर पहुंचे । स्थानीय ईश्वरचंद शाह, जय प्रकाश नायक, मेघलाल श्रीवास्तव, नूर आलम, मो जुनैद, मो मोफीज, मो हाफिज, भोला शाह सहित सभी लोगों ने सरकार के इस फैसले का जोरदार स्वागत कर अपना आभार व्यक्त किया ।