मालदा जिले की लीची अब दुबई जा रही है. लीची को सीधे दुबई भेजने की तैयारी चल रही है.

live aap news : मालदा जिले की लीची अब दुबई जा रही है. लीची को सीधे दुबई भेजने की तैयारी चल रही है. कुछ दिन पहले मुंबई के व्यापारियों ने दुबई लीची भेजने को लेकर कालियाचक के लीची व्यापारियों से संपर्क किया था. 12 बजे तक उन्होंने लीची को आधुनिक विधि से गाड़ी में पैक करने का आवेदन दिया. लेकिन 12 बजे तक गाड़ी में लीची तोड़ना संग्राहकों के लिए संभव नहीं था.
हालांकि इस संबंध में अभी अंतिम निर्णय नहीं हुआ है. दूसरी ओर, कलकत्ता या दिल्ली के व्यापारी रास्ते में कालियाचक के लीची बगान से पैकिंग कर रहे हैं। फिर इसे आधुनिक तरीके से स्टरलाइज करके पैक किया जाता है और फ्लाइट से दुबई भेजा जाता है। अब सीधे भेजने की तैयारी शुरू हो गई है। फिलहाल कालियाचक से लीची उत्तर प्रदेश, दिल्ली, मुंबई, बिहार, झारखंड समेत अन्य राज्यों में निर्यात की जा रही है. इस बार लीची की फसल से किसानों के चेहरे पर मुस्कान है. कीमत भी उपलब्ध है. लीची की कीमत आज भी वैसी ही है जैसी लॉकडाउन के दौरान थी. किसानों व व्यवसायियों का कहना है कि पिछले दो साल से दाम नहीं मिल रहे हैं. हालांकि गुटी लीची की कीमत थोड़ी ज्यादा है. अब हजारों की संख्या में लीची 1000-1600 टका में बिक रही है. वहीं बॉम्बे लीची 900-1400 रुपये बिक रही है.
पिछले वर्ष जिले में 1560 हेक्टेयर भूमि में लीची की खेती की गयी थी. इस बार यह बढ़कर 1600 हेक्टेयर हो गया है। जिले में सबसे अधिक लीची की खेती कालीचक-1 प्रखंड में होती है. यहां लगभग 670 हेक्टेयर भूमि पर लीची की खेती की जाती है। फिर दूसरे स्थान पर कालियाचक-3 है, जहां 219 हेक्टेयर भूमि पर खेती होती है और तीसरे स्थान पर कालियाचक-2 ब्लॉक है. कालियाच के पास लीची का एक बड़ा गुच्छा है। एक दुकानदार नाजिमुल इस्लाम ने कहा, ”हम यहां से सीधे लीची पैक करके दुबई भेजने की व्यवस्था कर रहे थे. लेकिन मुंबई के कारोबारी दोपहर 12 बजे तक गाड़ी पैक कर ले जाने को कह रहे थे. बिजनेस के दबाव के कारण उस दौरान हमारे लिए यह संभव नहीं था. हालाँकि, तैयारी चल रही है। हालांकि हमारी यहां की लीची घूमकर दुबई जा रही है।’

ऐसी और खबरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Related Post