शिक्षाविद् युवराज त्रिवेदी को बाल विवाह रोकने और बच्चों के विकास के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स से सम्मानित

  राजेश कुमार जैन : मालदा कालियाचक के शिक्षाविद् युवराज त्रिवेदी को 2012 से 150 से अधिक बाल विवाह रोकने और बच्चों के विकास के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में चयनित होने पर सम्मानित किया गया है। इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स ने पुरस्कृत करने के लिए दिल्ली बुलाने की बजाय कोरियर सेवा से पुरस्कार को भेजा है। साथ ही संस्था ने इस सम्मान की जानकारी फोन से दी।
इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स से सम्मानित शिक्षक युवराज त्रिवेदी ने कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण पुरस्कार कोरियर सेवा द्वारा भेजा गया है।शिक्षाविद युवराज त्रिवेदी ने न केवल बाल विवाह को रोका, बल्कि कोरोना की स्थिति में असहाय लोगों को घर-घर राशन पहुंचाना, लॉकडाउन की स्थिति में बीमार रिश्तेदारों को हर दिन अस्पतालों में खाना खिलाना, रक्तदान शिविर, पेड़ लगाना, सहायता करना जरूरतमंद परिवारों को विभिन्न तरीकों से मैंने बहुत पैसा खर्च करके शादी की व्यवस्था करने का काम किया है। 2012 से, हमने 150 से अधिक मालदीव में बाल विवाह को रोका है। इस वजह से मुझे कई बार जान से मारने की धमकी मिली। लेकिन मैं सभी भयों को नजरअंदाज करते हुए इस सामाजिक कार्य करता रहा। राज्य सरकार बाल विवाह को रोकने के लिए सभी आवश्यक पहल के साथ अभियान चला रही है। उस स्थिति में, मैं ग्रामीण क्षेत्रों में युवा छात्रों के घर गया और उनके माता-पिता को बाल विवाह रोकने के लिए मनाने की कोशिश की। दुर्गा पूजा से पहले, मैंने अपने सामाजिक कार्य दस्तावेज प्रस्तुत करके ऑनलाइन आवेदन किया था। तब मुझे इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स सम्मान के लिए चुना गया है।
शिक्षक और उनका परिवार इस पुरस्कार को पाकर बहुत खुश है। क्षेत्र के बुजुर्ग शिक्षाकर्मी का बधाई देने का तांता उनके घर पर लगा है।युवराज त्रिवेदी कालियाचक 3 प्रखंड के चरियनंतपुर क्षेत्र के रहने वाले हैं। पेशे से जैनपुर हाई स्कूल के शिक्षक हैं।परिवार में पत्नी राधा त्रिवेदी और छह महीने के बेटे सहित बुजुर्ग माता-पिता हैं। युवराज जब कॉलेज में थे तब से ही उन्होंने विभिन्न नाटकों के माध्यम से बाल विवाह को रोकने के लिए काम करना शुरू कर दिया था। 2012 से मालदा में बाल विवाह को रोकने के लिए विभिन्न दोस्तों की मदद से अकेले मैदान में डटे रहे है। जिससे युवराज को कई बार संघर्ष का सामना करना पड़ा है। शिक्षाविद को पहले पांचवीं से नौवीं कक्षा तक के विभिन्न आयु के छात्रों के बाल विवाह को रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा पुरस्कृत किया जा चुका है। अब उन्हें सराहनीय कार्य के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स ने चयन कर सम्मानित किया गया है।

संवाददाता: मालदा।

Related Articles

[td_block_social_counter facebook="tagdiv" twitter="tagdivofficial" youtube="tagdiv" style="style8 td-social-boxed td-social-font-icons" tdc_css="eyJhbGwiOnsibWFyZ2luLWJvdHRvbSI6IjM4IiwiZGlzcGxheSI6IiJ9LCJwb3J0cmFpdCI6eyJtYXJnaW4tYm90dG9tIjoiMzAiLCJkaXNwbGF5IjoiIn0sInBvcnRyYWl0X21heF93aWR0aCI6MTAxOCwicG9ydHJhaXRfbWluX3dpZHRoIjo3Njh9" custom_title="Stay Connected" block_template_id="td_block_template_8" f_header_font_family="712" f_header_font_transform="uppercase" f_header_font_weight="500" f_header_font_size="17" border_color="#dd3333"]
- Advertisement -spot_img

Latest Articles