19 वी वाहिनी सशस्त्र सीमा बल ठाकुरगंज द्वारा सोमवार को सशस्त्र सीमा बल के 58 वी वर्षगांठ मनाया गया

खोरीबाड़ी। 19 वी वाहिनी सशस्त्र सीमा बल ठाकुरगंज द्वारा सोमवार को सशस्त्र सीमा बल के 58 वी वर्षगांठ मनाया गया । इस अवसर पर वाहिनी द्वारा नागरिक कल्याण कार्यक्रम के तहत 40 युवक व युवतियों के लिए 30 दिवसीय कम्पुटर प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ भी किया गया । और सीमावर्ती क्षेत्र के स्कूलों के बीच वॉलीबाल प्रतियोगिता का शुभारंभ कराया गया । इस अवसर पर जय प्रकाश कार्यवाहक कमांडेंट ने संबोधित करते बताया की सशस्त्र सीमा बल का गठन 20 दिसंबर 1963 की शुरुआत में भारत – चीन युद्ध के बाद स्थापित किया गया था । इसका प्राथमिक उद्देश्य चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा आक्रामकता का मुकाबला और भारत की विदेशी खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग के लिए सशस्त्र सहायता प्रदान करना था, जिसका उद्देश्य सीमा की आबादी में राष्ट्रीयता की भावनाओं को उत्पन्न करना और प्रतिरोध के लिए अपनी क्षमताओं को विकसित करने में उनकी सहायता करना था । एसएसबी मॉडल ने एक बहुत बड़ी सफलता साबित की, जो यह बताता है कि बांग्लादेश और अन्य स्थानों में मुक्ति बाहिनी, उत्तर – पूर्व में कॉइन ओप के प्रशिक्षण और 1971 के भारत – पाकिस्तान युद्ध के दौरान ऊंची चोटियों पर सुरक्षा प्रदान करने की अपनी क्षमता से यह साबित हुआ है । जिसके बाद एसएसबी को भारत नेपाल सीमा ( जून , 2001 ) के लिए बॉर्डर गार्डिंग फोर्स और लीड इंटेलिजेंस एजेंसी के रूप में घोषित किया गया और 1751 किमी नेपाल सीमा और वर्ष 2004 में 699 किमी के भूटान की सीमाओं की रखवाली का काम सौंपा गया था और तभी से बल नेपाल और भूटान से लगने वाली खुली अंतरराष्ट्रीय सीमा की सुरक्षा एवं प्रबंधन का दायित्व सम्भाल रहा है । इसके अलावा एसएसबी अलग अलग राज्यों में जैसे जम्मू और कश्मीर में काउंटर – इंसर्जेसी ऑपरेशन और झारखंड , बिहार और छत्तीसगढ़ में नक्सल विरोधी अभियानों में भी संलग्न है । यह भारत के विभिन्न हिस्सों में आंतरिक सुरक्षा कर्तव्यों यानी चुनाव कर्तव्यों और कानून और व्यवस्था के कर्तव्यों का पालन भी भली भांति कर रहा है । एसएसबी पहली सीमा रक्षक बल है जिसने महिला बटालियनों की भर्ती करने का निर्णय लिया था । बल के दिशा निर्देशों / मार्गदर्शन के तहत हमारी वाहिनी ने इस वर्ष 95,05,781 / – ( पंचानबे लाख पांच हजार सात सौ इक्यासी ) रुपये की 139 जब्तियाँ और 89 तस्करों को भी गिरफ्तार किया है जिसमें मुख्यत : ( नरकोटिक्स , शराब और मवेशी ) शामिल है । सशस्त्र सीमा बल के 58 वॉ वर्षगांठ के शुभ अवसर पर महानिदेशक महोदय के द्वारा वाहिनी के निम्नलिखित बल कर्मियों को उनके उत्कृष्ट एवं सराहनीय कार्यों के लिए विभिन्न तरह के पदकों से सम्मानित किया गया है जो हमारी वाहिनी के लिए बहुत ही गौरव एवं हर्ष का विषय है । श्वेता थापा , सहायक कमांडेंट ( समान्य ) – सिल्वर डिस्क, आरक्षी / समान्य ( महिला ) गुंजन कुमारी , सिल्वर डिस्क इसी के साथ यह बताते हुये बहुत ही हर्ष हो रहा हैं की अपने अस्तित्व के 58 वर्षों में , एसएसबी ने सेवा, सुरक्षा और भाईचारे की सदस्यता लेने वाले दूर दराज और दुर्गम क्षेत्रों में सीमावर्ती आबादी के बीच सरकार का एक सौम्य चेहरा पेश करने का प्रयास किया हैं । इस अवसर पर जय प्रकाश कार्यवाहक कमांडेंट 19 वी वाहिनी, डॉ भरत चौधरी सहायक कमांडेंट, सुमित कुमार चौरोसिया सहायक कमांडेंट ( चिकित्सा ), अन्य गणमान्य लोग सहित विभिन्न स्कूल के शिक्षक और बच्चे मौजूद थे ।

Latest News

ऐसी और खबरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें