Malda News: भाजपा विधायिका के विरुद्ध तृणमूल ने दर्ज कराई मिसिंग डायरी

Live aap news: मालदा विधानसभा चुनाव के आठ माह बीत जाने के बाद इंग्लिश बाजार की भाजपा विधायिका अपने क्षेत्र से नदारद है। लोगों को अपने काम कराने के लिए दर दर भटकना पड़ता है।लोग अपने विधायक को न पाकर वार्ड के पार्षद के पास पहुंचते हैं निराश होकर लौटने पर जिला मुख्यालय पहुंचने पर भी काम नहीं हो पाता है और तो और जिला मुख्यालय में बैठे लोगों को जनता की खरी खोटी सुनना पड़ता है वहीं लोगों का कोपभाजन का शिकार होना पड़ता है। इससे एक कदम आगे बढ़कर भाजपा के नाम गंदे लफ्ज़ सुनने पड़ रहें हैं।ऐसे में अब भाजपा के नेता मीडिया के सामने आने व बोलने से कतरा रहे हैं।
इस संदर्भ में जिलाध्यक्ष ने कहा कि इंग्लिश बाजार विधायिका के क्षेत्र में मौजूद नहीं रहने पर आमलोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।हम लोगों ने प्रदेश के पदाधिकारी को लिखित सूचना देकर वस्तुस्थिति से अवगत कराया है। विधायक प्रतिनिधि की नियुक्ति रहने से ऐसी समस्या उत्पन्न नहीं होती।
स्थानीय लोगों का कहना है कि इंग्लिश बाजार विधानसभा क्षेत्र पर कब्जा करने के बाद से आजतक विधायिका अपने क्षेत्र में नजर नहीं आई।और तो और दर्ज फोन नं, मोबाइल नं, एवं अपने दिए गए पते पर उपलब्ध नहीं रहती है। सैकड़ों बार चक्कर काटने पड़ते हैं,कभी पार्षद,तो कभी पार्टी कार्यालय लेकिन ढ़ाक का तीन पात। अंततः तृणमूल के चौखट पर नाक रगड़ने को बाध्य होना पड़ता है।
शहर के जमीनी स्तर के छात्र-युवा कार्यकर्ताओं ने तृणमूल के समर्थन से स्थानीय विधायिका के विरुद्ध वैनर के साथ विभिन्न मार्गों से गुजरते हुए इंग्लिश बाजार थाने में विधायिका के गुमशुदगी दर्ज करायी।
तृणमूल छात्रों और युवा कार्यकर्ताओं ने भाजपा विधायक श्रीरूपा मित्रा चौधरी की तस्वीर के साथ एक ‘लापता’ उत्सव किया और मालदा शहर के फब्बारा मोड़ पर एक मानव श्रृंखला कार्यक्रम आयोजित किया। तृणमूल छात्र के बैनर पर विधायिका की फोटो के साथ लिखा दिखा कि इंग्लिश बाजार भाजपा विधायक श्रीरूपा मित्र चौधरी लापता हैं, मैं ढूंढ़ रहा हूं किसी को खबर हो तो सूचित करें।
विधायक की तलाश को लेकर पुलिस प्रशासन में शिकायत दर्ज करायी गयी है।
एक नेता अर्पण सेन ने कहा कि विधानसभा चुनाव के बाद लगभग आधा वर्ष से ज्यादा का समय समाप्त हो चुका है क्षेत्र में स्थानीय भाजपा विधायक को नहीं देखा गया है। आम लोग उनसे संपर्क नहीं कर पाए हैं।
भाजपा विधायिका के क्षेत्र से नदारद रहने से भाजपा असहज महसूस कर रही है।

Latest News

ऐसी और खबरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें